आश्चर्य! 581 किलो गांजा चूहे खा गए पुलिस ने कोर्ट में बताई अपनी बेबसी


प्रखर मथुरा/एजेंसी। चूहों द्वारा सामान, खाने की चीज, डब्बा इत्यादि खाने की बात तो आप सभी लोग भली भाग जानते होंगे। लेकिन अगर चूहा नशेड़ी निकल जाए, तो इस पर आपको सुनकर आश्चर्य होगा। ऐसा ही मामला मथुरा जनपद में निकल कर सामने आया है। जहां पर मथुरा पुलिस ने कोर्ट में यह हलफनामा दाखिल किया है कि पकड़े गए 581 किलो गांजे को मालखाने में रखा गया था, जहां पर चूहे खा गए। जिसके बाद मामला चर्चा का विषय बना हुआ है। बता दें कि भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा में नशेड़ी चूहों से स्थानीय पुलिस भी परेशान है. आलम यह है कि मालखाने में रखे 581 किलोग्राम गांजे को भी चूहे डकार गए. यह मामला तब सामने आया जब कोर्ट ने इस बाबत पुलिस से जवाब मांगा. अपने जवाब में पुलिस ने भी चूहों के आतंक से निपटने में बेबसी जाहिर की है. दरअसल, शेरगढ़ और हाईवे थाना पुलिस द्वारा पकड़ी गई 581 किलो गांजे की खेप को पुलिस ने मालखाने में जमा करवाया था. जिसके बाद एडीजे सप्तम ने चूहों की समस्या से निपटने के लिए आदेश दिए हैं. साथ ही कहा है कि पुलिस 26 नवंबर तक कोर्ट में इस बाबत साक्ष्य पेश करे. पूरा मामला शेरगढ़ और हाईवे थाना पुलिस द्वारा वर्ष 2018 में 386 और 195 किलो गांजे के साथ पकड़े गए आरोपियों से जुड़ा है. इस मामले में पुलिस ने साक्ष्य के तौर पर सैंपल के रूप में गांजे को कोर्ट में पेश किया था. इस मामले में एडीजे सप्तम संजय चौधरी ने पुलिस को निर्देश दिया था कि गंजे के पैकेट को सील मुहर के साथ कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत किया जाए. इसके जवाब में पुलिस ने कहा है कि मालखाने में रखे गए गांजे को चूहे खा गए. लिहाजा गांजे की खेप को अदालत में पेश नहीं किया जा सकता. इसके साथ ही पुलिस की तरफ से कोर्ट के समक्ष बेबसी भी जाहिर की गई है. पुलिस ने अपने जवाब में कहा है कि मालखाने में ऐसी कोई जगह नहीं है जहां सामान को चूहों से बचाया जा सके. पुलिस की तरफ से दिए गए जवाब में कहा गया कि जो थोड़ा बहुत गांजा बच गया था उसे नष्ट कर दिया गया. इसके बाद कोर्ट ने एसएसपी को निर्देशित किया कि थाने के मालखाने में पल रहे चूहों पर अंकुश लगाने के लिए प्रभावी कदम उठाया जाए. अब इस मामले में अगली सुनवाई 26 नवंबर को होगी. इस मामले में जब अभियोजन पक्ष की तरफ से बात करने की कोशिश की गई तो कोई जवाब नहीं मिला।