सिटी मजिस्ट्रेट ने दूसरे पक्ष को बलात्कार के मुकदमे में फसाने के लिए खुलेआम दे डाली धमकी

सोशल मीडिया में वायरल हो रही एक वीडियो बना चर्चा का विषय

प्रखर जौनपुर। सोशल मीडिया में वायरल हो रही एक वीडियो से जिले के एक जिम्मेदार अधिकारी सुर्खियों में आ गए है। वीडियो में साफ सुनाई दे रहा है कि उक्त अधिकारी एक महिला को दूसरे पक्ष को बलात्कार के मुकदमे फसाने के लिए खुलेआम कह रहे है। यह वीडियो वायरल होने के बाद जिले में हड़कम्प मच गया है। हालांकि इस वीडियो की पुष्टि प्रखर पूर्वांचल नही कर रहा है। यह मामला सरायख्वाजा थाना क्षेत्र के ककोरगहना गांव का बताया जा रहा है। हालांकि आरोपी अधिकारी ने वीडियो को तोड़ मरोड़कर वायरल करना बताते हुए कहा कि कुछ दबंगों मठ, मंदिर को कब्जा करके अपने निजी प्रयोग में कर रहे है , मठ मंदिर की जमीन सार्वजनिक होती है वहा कोई भी साधु संत रह सकता है ।
मिली जानकारी के अनुसार सरायख्वाजा थाना क्षेत्र के ककोरगहना गांव में कबीर मठ की करीब 3 एकड़ जमीन को लेकर दो पक्षो के बीच कई वर्षों से विवाद चल रहा है , इस मामले में एसडीएम कोर्ट से लेकर दीवानी न्यायालय तक मुकदमा चल रहा है । एक पक्ष के प्रमोद मौर्य ने बताया कि कोर्ट में मुकदमा विचाराधीन होने के बाद विपक्षी जबरदस्त उक्त मठ और जमीन पर कब्जा करने का प्रयास कर रहे है। इसी कड़ी में शुक्रवार को शाम करीब 4 बजे सिटी मजिस्ट्रेट एक महिला को लेकर पहुंचे उस महिला को मठ में रहने के लिए कहा मेरे द्वारा मना करने पर उस महिला को मुझे रेप के मुकदमे में फसाने के लिए बोल दिया। उस समय का पूरा मामला एक युवक ने अपने मोबाइल के कैमरे से रिकॉर्ड कर लिया जो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है।
सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि पूर्व आ एसएस कार्यकर्त्ता मैन बहादुर सिंह ने शिकायत किया था कि कुछ दबंगों ने मठ, मंदिर को कब्जा करके अपने निजी प्रयोग में कर रहे है , मठ मंदिर की जमीन सार्वजनिक होती है वहा कोई भी साधु संत रह सकता है , पूर्व आरएसएस कार्यकर्ता मैन बहादुर सिंह ने शिकायत किया था कि कुछ दबंगो ने मठ की जमीन को कब्जा करके अपने निजी प्रयोग में इस्तेमाल कर रहे है , मैं मौके पर जाकर कब्जेदारों को समझाने की कोशिश किया लेकिन वे लोग नही माने तो उनकी भाषा मे समझाने का प्रयास किया । जो वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है वह आधा अधूरा है ।