लंका में एक साल से मां के शव के साथ घर में रह रही थी बेटियां, तीन तालों को तोड़कर निकाला गया कंकाल

0
227

प्रखर वाराणसी। वाराणसी के लंका इलाके में एक वर्ष से मां के शव के साथ दो बिटिया रहती हुई मिली। बताया जाता है कि उनकी मां की मौत 1 वर्ष पूर्व बीमारी की वजह से हो गई थी। जानकारी के अनुसार लंका थाना क्षेत्र के मदरवां में बुधवार शाम घर के अंदर से एक महिला का कंकाल बरामद हुआ है। महिला का निधन 8 दिसंबर, 2022 को बीमारी की वजह हुआ था, लेकिन दोनों बेटियों ने आज तक अंतिम संस्कार ही नहीं किया । महिला के शव को रजाई के अंदर छिपाकर रखा था। शव में कीड़े पड़े तो हाथ से निकालकर बाहर फेंक दिए। दुर्गंध उठने पर घर की छत पर जाकर खाना खाया। करीब एक साल तक महिला के शव के साथ रहीं। मामले की सूचना पर बुधवार को लंका थाने की पुलिस मौके पहुंची और घर के तीन दरवाजों के ताले तोड़कर अंदर गई। कंकाल को बाहर कराया और दोनों बेटियों को भी घर से बाहर ले आई। साक्ष्य के तौर पर महिला के कपड़े, चप्पल, चादर, रजाई आदि कब्जे में लिए गए हैं। पुलिस के मुताबिक दोनों बेटियों की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। पति से विवाद के बाद ऊषा तिवारी (52) अपने पिता रामकृष्ण पांडेय और बेटियों पल्लवी व वैष्णवी के साथ मदरवां में रहने लगी। लाॅकडाउन में रामकृष्ण पांडेय छोटी बेटी के यहां लखनऊ रहने चले गए। रामकृष्ण की दूसरी बेटी उपासना की शादी मिर्जापुर में हुई है। उपासना और उसके पति धर्मेंद्र कई बार मदरवां स्थित मकान पर भी गए, लेकिन दोनाें बेटियां बहाना बनाकर दरवाजा खोलने से इन्कार कर देती थी। दो महीने पहले रामकृष्ण भी आए तो दोनों ने दरवाजा नहीं खोला।