राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह

0
153

जनजागरण एवं गृह सम्पर्क महा अभियान की रणनीति तैयार

– प्रांत प्रचारक ने शतप्रतिशत परिवारों से सम्पर्क का किया आह्वान

प्रखर काशी। हरहुआ स्थित गोकुल धाम लॉन में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ काशी प्रांत की बैठक रविवार 10 दिसंबर को सम्पन्न हुई । यह बैठक 22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर भारतीय जनमानस को निमंत्रित करने के लिए बुलाई गई। गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा श्री राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर पूरे भारत से लोगों को आमंत्रित करने का एक विशेष अभियान चला रहा है। इसी कड़ी में यह बैठक बुलाई गई थी। इस कार्यकर्ता बैठक में रणनीति को अंतिम रूप दिया गया। श्री राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा गृह संपर्क महाभियान हेतु काशी प्रांत के 22 हजार गांवो के शत प्रतिशत घरों मे संपर्क की व्यापक रणनीति को अंतिम रूप दे दिया गया। इसके अन्तर्गत 5लाख कार्यकर्ता 5- 5की टोली में गांव- गांव में संपर्क कर उन्हें अयोध्या पहुंचने का न्योता देंगे ।तथा लौटते समय अपने संपर्कित गांवों, बस्तियों का पूरा रेकार्ड ले कर आयेंगे। प्रांत के 27जिलों के कोने कोने से आये प्रमुख पदाधिकारियों की उपस्थिति में प्रांत प्रचारक रमेश जी ने कार्यकर्ताओ का आह्वान किया कि वे शत-प्रतिशत घरों में संपर्क का लक्ष्य लेकर महाभियान के लिए निकलें।’एक भी घर छूटा तो महाभियान चक्र टूटा’ को ध्यान में रखते हुए अपने कठोर परिश्रम से नयी ऊंचाइयों पर पहुंचाते हुए इसे ऐतिहासिक बना दें। उन्होंने कार्यकर्ताओं को याद दिलाया कि श्री राम मन्दिर निर्माण के लिये निधि संग्रह अभियान में काशी प्रांत ने निर्धारित लक्ष्य 51करोड को पीछे छोड़ते हुए 74 करोड़ कोरोना काल में जमा कर अपनी जीवटता तथा परिश्रम का अभिनव उदाहरण प्रस्तुत किया था। विश्व के सब से बड़े संगठन की ओर से चलाया जाने वाला यह विश्व का ‌सब से बडा अभियान होगा ऐसा पूर्ण विश्वास है। यह अभियान 1 से1 5 जनवरी तक सम्पूर्ण प्रांत में पूरे उत्साह के साथ चलाया जाएगा।18से 21 जनवरी तक गांव गांव नगर नगर में प्रभातफेरी निकाल कर जनजागरण किया जायेगा। अभियान की रणनीति को स्पष्ट करते हुए प्रांत प्रचारक जी ने कहा कि इसे सफल बनाने के लिए 35से 40 कार्यकर्ताओं की जिला स्तर पर शीघ्र ही समिति गठित कर लें। 30 कार्यकर्ताओं की दूसरी टोली खंड एवं नगर स्तर पर काम करेगी। इसमें माता बहनो को भी समुचित प्रतिनिधित्व दिया जाएगा। हर गांव के लिए पांच पांच कार्यकर्ताओं की टोली होगी जो निमंत्रण पत्र पहुंचाएगी। उन्होंने कहा कि 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटने पर देशवासियों ने दीप जलाकर जैसे दीपावली मनाई थी इस तरह 500 वर्षों के लंबे संघर्ष एवं बलिदानों के बाद रामलला के गर्भ गृह में पुनर्प्रतिष्ठित होने की खुशी में 22 जनवरी को सायं काल घर घर दीपावली मनाई जाएगी।
22 जनवरी को 11:00 बजे से लेकर सूर्यास्त तक के श्रृंखला बद्ध ढंग से चलने वाले सभी कार्यक्रमों की प्रांत प्रचारक जी ने कार्यकर्ताओं को एक बार पुनः याद दिलाई। इस दिन बड़े पर्दे पर प्राण प्रतिष्ठा समारोह को जीवंत दिखाने के लिए पहले से समुचित प्रबंध करने, मंदिरों में शंखनाद घंटा नाद तथा प्रसाद वितरण की व्यवस्था एवं घरों पर भगवा पताका फहराने हेतु पहले से समुचित तैयारी करने के लिए विशेष निर्देश दिए गये। इसके लिए गांव गांव में मंदिर समिति एवं पुजारी के साथ बैठ कर समाज के सभी जाति मत पंथ के लोगों को साथ लेकर सारे कार्यक्रमों की योजना बनाने की जरूरत पर भी उन्होंने बल दिया। बैठक में कानपुर से आये क्षेत्र प्रचारक प्रमुख राजेंद्र जी ,प्रांत संघचालक अंगराज जी सहप्रांत प्रचारक मुनीश जी ,प्रांत कार्यवाह मुरलीपाल जी, सहप्रांत कार्यवाह डा राकेश जी, डा राजबिहारी जी, प्रांत प्रचार प्रमुख डा मुरारजी, सेवा प्रमुख सत्यविजय सिंह,सामाजिक समरसता प्रमुख आलोक जी ,डॉक्टर कुलदीप जी,संतोष जी संजीव जी प्रोफ़ेसर जेपी लाल जी प्रो के पी सिंह श्री सच्चिदानंद राय,डॉक्टर ए के सिंह तिलकधारी जी रमेश त्रिपाठी,सत्यपाल जी समेत सभी २७ जिलों के जिला संघचालक ज़िला कार्यवाह जिला प्रचारक विभाग कार्यवाह और सभी विभाग प्रचारक उपस्थित थे।