महिला सिपाही के चक्कर में दो सिपाहियों के बीच चली गोली थानाध्यक्ष सहित पांच सस्पेंड


प्रखर बरेली। जिले के बहेड़ी थाने के पुलिसकर्मियों की अराजता ने पुलिस की छवि को धूमिल कर दिया है. दरअसल बीती देर रात बहेड़ी थाने में दो पुलिसकर्मियों के बीच आपसी मारपीट हो गई. इस दौरान एक सिपाही ने फायरिंग कर दी. फायरिंग होते ही थाने में हड़कंप मच गया. सरकारी असलहे से हुई फायरिंग के बाद एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज ने जांच पड़ताल के लिए एसपी क्राइम को मौके पर भेजा. जांच के बाद एसपी क्राइम ने अपनी रिपोर्ट एसएसपी को सौंपी. जिसके बाद एसएसपी ने बहेड़ी थाना इंचार्ज सतेंद्र भड़ाना, इंस्पेक्टर क्राइम अनिल कुमार, सिपाही योगेश और मोनू सहित 5 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया. एसएसपी की इस करवाई के बाद जिलेभर के पुलिसकर्मियों में हड़कंप मचा हुआ है. सूत्रों के अनुसार बरेली के पुलिसकर्मियों में चर्चा है कि बहेड़ी थाने में तैनात सिपाही मोनू और योगेश के बीच कई दिनों से विवाद चल रहा है. विवाद की वजह थाने में तैनात महिला सिपाही बताई जा रही है. देर रात दोनों में किसी बात को लेकर विवाद हो गया. जिसके बाद जमकर गाली-गलौज भी हुई. इसी दौरान सिपाही ने दरोगा की रिवाल्वर छीन कर थाना प्रांगण में ही फायर कर दिया. गनीमत रही कि गोली किसी को नहीं लगी. सरकारी रिवाल्वर से चली गोली थाने के फर्श में जा धंसी.गोली चलने की घटना के बाद पुलिसकर्मियों में अफरा-तफरी मच गई. थाने में मौजूद स्टाफ ने दोनों को पकड़कर समझाकर मामला शांत कराया. जिसके बाद कुछ पुलिसकर्मी मामले को दबाने में जुट गए. इसके बावजूद घटना की जानकारी एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज हो गई. इसके बाद एसएसपी ने रात में ही एसपी क्राइम मुकेश सिंह को बहेड़ी थाने भेजा, जहां उन्होंने पूरे घटनाक्रम की जानकारी लेकर, अपनी रिपोर्ट बनाकर एसएसपी को सौंप दी. एसएसपी ने एसपी क्राइम की रिपोर्ट के आधार पर 5 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है. मीडिया पर सांसद वरूण गांधी का एक पत्र तेजी से वायरल है. पत्र में वरुण गांधी ने एडीजी यूपी को लिखा है कि, बहेड़ी थाना इंचार्ज सत्येंद्र बढ़ाना, ग्राम प्रधान, जिला पंचायत सदस्य जैसे जनप्रतिनिधि के साथ उचित व्यवहार नहीं करते हैं. ये जनप्रतिनिधि जब भी किसी मामले को लेकर, थाने में शिकायत करने आते हैं तो थाना इंचार्ज, पीड़ित को ही धमकाते हैं और जेल भेजने की धमकी देते हैं. ऐसे में उनका स्थानांतरण कहीं दूर कर दिया जाए. सांसद का वायरल पत्र अब जिलेभर में चर्चा का विषय बना हुआ है.घटना के बाद एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज का कहना है कि प्रशासनिक कार्य में लापरवाही और निरंकुशता के कारण पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है. उन्होंने कहा कि थाने के अंदर गोली चलने से पुलिस की छवि धूमिल हुई है. एसएसपी ने कहा कि सभी के खिलाफ जांच कराई जा रही है. जांच के बाद विधिक कार्रवाई की जाएगी.