विशाल प्रोटेक्शन फ़ोर्स की मेहनत लाई रंग, देव दीपावली पर पूरी तरह से चमका दिया घाट, लोग खूब कर रहे तारीफ़

देव दीपावली पर लाखों दीयों के साथ जगमग हुए घाट, नमामि गंगे परियोजना के तहत साफ़ सफाई की जिम्मेदारी विशाल प्रोटेक्शन फ़ोर्स को मिली है

प्रखर वाराणसी। बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी देव दीपावली पर देवलोक की तरह सजाई गई। लाखों दियो के साथ तमाम घाटों पर देवलोक की छटा नजर आई। तमाम हस्तियां इस नजारे के साक्षी बने। बता दे कि बाढ़ के बाद तमाम घाटों पर शिल्ड जमा हो गई थी। जिसे साफ करना एक चुनौती था। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट नमामि गंगे परियोजना के ठेकेदार विशाल प्रोटक्शन फोर्स ने जी-जान लगाकर देव दीपावली से पहले ही सभी घाटों को साफ कर यह संदेश दे दिया कि हमसे बेहतर प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट नमामि गंगे के तहत गंगा को किसी के द्वारा साफ नहीं किया जा सकता। बता दें कि देव दीपावली पर सभी घाटों पर दियों के साथ तमाम कलाकृतियां बनाई गई, जिसको देख लोग मंत्रमुग्ध हो गए। काशी के प्रमुख घाटों पर दोपहर बाद तीन बजे से ही आस्‍था का उफान ऐसा उमड़ा कि दिन ढलने तक हर-हर महादेव और हर-हर गंगे का उदघोष कर भीड़ का बहाव गंगा तट की ओर बढ़ता दिखाई दिया। देखते ही देखते घाट पर पांव रखने की भी जगह मिलनी मुश्किल हुई तो लोगों ने दूसरे घाटों का रुख कर देव दीपावली के पर्व को विस्‍तार दिया। गंगा तट स्थित घाटों की श्रृंखला के क्रम में हर घाट पर अनोखे तरीके से हुई सजावट ने जहां लोगों का मन मोह लिया वहीं पंचगंगा घाट पर प्रकाशित होने वाला हजारा का मंच भी अनोखे जल प्रकाश पर्व पर आभा बिखेरता नजर आया। इसके अलावा बताते चले कि नमामि गंगे परियोजना का कार्य कर रही विशाल प्रोटेक्शन फोर्स को भ्रष्टाचार में लिप्त तमाम संबंधित अधिकारी व कर्मचारी आए दिन परेशान करते हैं, लेकिन विशाल प्रोटेक्शन फोर्स से संबंधितो ने कहा कि मां गंगा के लिए सहने को तैयार है और अपनी मेहनत और लगन के साथ मां गंगा की सफाई जी- जान लगा लगाकर किये है। प्रखर पूर्वांचल ने देव दीपावली पर तमाम घाटों पर लोगों से जानकारी ली की यह कंपनी किस प्रकार से साफ सफाई की है तो लोगों ने कहा कि जो भी कंपनी इस कार्य को कर रही है उसने अपना दायित्व बखूबी से निभाया है। देव दीपावली पर यह छटा देखकर हम कंपनी को धन्यवाद देते हैं। वहीं स्थानीय लोगों से भी बात की गई तो उन्होंने भी कंपनी की तारीफ ही की। लेकिन भ्रष्टाचारियों को यह कुछ नहीं दिखता क्योंकि उन्हें तो किसी न किसी तरह भ्रष्टाचार करना है, चाहे वह मां गंगा हो या कोई और।